Why is Diwali Celebrate in Hindi

Why is Diwali Celebrate in Hindi

Why we Celebrate Diwali Festival

दीपावली एक ऐसा पर्व हैं जिसे बड़ी धूमधाम से मनाया जाता हैं। यह त्यौहार बच्चे, बड़े और बूढ़े सभी का पसंदीदा त्यौहार हैं। यह त्यौहार प्रेम और स्नेह से भरा होता हैं। इसे रोशनी का त्यौहार भी कहा जाता हैं। क्योकि आज के दिन सभी लोग अपने घर को रोशनी के दियो से सजाते हैं। यह त्यौहार पुरे विश्व में हिन्दुओ द्वारा मनाया जाता हैं। इस दिन लोग नए कपडे फेंटे हैं और रंगोली और दियो से अपने घरो को सजाते हैं।

दीपावली क्यों मनाई जाती हैं? यह तो आप सभी जानते हैं अगर आप नहीं जानते तो आज हम आपको बताएंगे दीपावली क्यों मनाई जाती हैं और इसका क्या महत्त्व हैं।

भगवान राम जब असुर रावण को मारकर वापिस अयोध्या लौटे थे तो अयोध्या से सभी नगरवासियो ने घी के दिए जलाए। पूरा अयोध्या उस दिन दियो की रोशनी से जगमगा रहा था। तब से यह परंपरा चलती आ रही हैं की कार्तिक अमावस्या को दूर करने के लिए घी के दिए जलाए जाते हैं। घर के किसी भी हिस्से में अंधकार नहीं होना चहिये।

इसके पीछे एक और कहानी हैं एक बार राजा से एक ज्योतिष ने कहा की राजा का अभाग्य सांप के रूप में आएगा। जब राजा को यह बात पता चली तो उन्होने तुरंत अपनी प्रजा को आदेश दिया की वह घरो को अच्छे से साफ़ करे और दियो की रौशनी पुरे अयोध्या में फैला दे। लेकिन राजा के दुर्भाग्य ने उनका साथ नहीं छोड़ा जब राजा अपने विश्राम कर रहे थे तो उनके बिस्तर के पास एक दिया बुझ गया और तब सर्प देवता ने उन्हें डस लिया। जब सर्प देवता ने रानी का स्वर सुना तो वह खुश हो गए और उन्होंने रानी को वर मांगने के लिए कहा तब रानी ने वर में अपने पति का जीवनदान माँगा। सर्प देवता राजा का जीवन मांगने के लिए यमराज के पास गए तो यमराज ने उनका जीवनमंत्र देखा उससे उन्हें पता चला की वह 0 हैं। अर्थात उनका जीवन समाप्त हो चूका हैं। सर्प देवता बहुत चतुर थे उन्होंने अपने चतुराई से शुन्य के आगे सात लगा दिया।   यमराज ने तब सर्प देवता को राजा के प्राण लौटा दिए। कहा जाता हैं राजा को पुनर्जीवन मिलने की ख़ुशी में यह त्यौहार मनाया जाता हैं।

दीपावली का त्यौहार हमे अंधकार से रोशनी की और ले जाता हैं ये पर्व केवल लोगो के घरो में ही नहीं बल्कि उनके जीवन में भी रोशनी भर देता हैं। इस दिन राष्ट्रिय अवकाश मिलता हैं। यह त्यौहार अपने परिवार रिश्तेदार और मित्रो के साथ मनाया जाता हैं। दीपावली की सफाई का अर्थ केवल घर की सफाई नहीं होता इस दिन आपको अपने बुरी विचारो, स्वार्थ और गलत आदतों को त्यागना होता हैं। इस दिन सभी लोग नए कपडे पहन कर घरो को सजाते हैं रंगोली बनाते हैं और लश्मी और गणेश जी की पूजा करते हैं।

 

How to Celebrate Diwali

आइये अब जानते हैं दीपावली पर सुख और समृद्धि बढ़ाने के कुछ घरेलु उपाय :-

1.) घर की साफ़-सफाई  – दीपावली की शुरुआत घर की साफ़-सफाई से की जाती हैं यह तो आप सभी जानते हैं। कहा जाता हैं की लष्मी जी वही वास करती हैं जहा साफ़ हो। लेकिन वैज्ञानिको का कहना हैं कि यह बात इसलिए कही गई हैं क्योकि गन्दगी से बीमारिया फैलती हैं और बीमारी के कारण बहुत सारा पैसा बीमारी के इलाज में बेकार जाता हैं। इसलिए यह बात धन के सम्बन्ध में कही गई हैं। अगर आप अपने घर में धन और समृद्धि चाहते हैं तो घर की साफ़-सफाई का धयान रखे।

घर की साफ़-सफाई
घर की साफ़-सफाई

 

2.) रोशनी के दिए जलाए – दीपावली के दिन किसी भी स्थान पर अँधेरा नहीं होना चहिये। अगर आपको अपने घर के आस-पास कोई भी ऐसा स्थान दिखाई देता हैं जहा अन्दर हैं तो वहा दिया जरूर जलाए। घर के आस-पास चौराहे पर दिया जलाए इससे पैसो से जुडी समस्या समाप्त होती हैं।

रोशनी के दिए जलाए
रोशनी के दिए जलाए

3.) दीपावली पर रंगोली बनाए – दीपावली के दिन घर के मैं द्वार पर रंगोली बनाई जाती हैं क्योकि कहा जाता हैं वहा से लष्मी जी प्रवेश करती हैं। घर की महिलाए दीपावली के कुछ दिन पहले ही यह काम करना शुरू कर देती हैं और दीपावली तक रोज रंगोली बनाती हैं। आप अगर रोज नहीं कर सकते तो दिवाली वाले दिन यह काम जरूर करे।

दीपावली पर रंगोली बनाए
दीपावली पर रंगोली बनाए

4.) नमक के पानी से पोछा – नमक बुरी और नकारात्मक ऊर्जा को नष्ट करता हैं। अगर आप अपने जीवन को सकरात्मक ऊर्जा से भरना चाहते हैं तो नकारात्मक ऊर्जा को दूर करे। इसके लिए आप रोज नमक के पानी से पोछा लगाए। अगर आपके पास समुद्री नामक हैं तो उसका इस्तेमाल करे अगर नहीं तो आप साधारण नमक का इस्तेमाल कर सकते हैं।

नमक के पानी से पोछा
नमक के पानी से पोछा

5.) मीठा बनाए और इसे बांटे – अगर आप इस दिन मीठा बना कर गरीबो में बाटते हैं तो आपको उनकी दुआओ से सुख और समृधि प्राप्त होती हैं। इसलिए इस दिन जितना हो सके जरूरतमंद लोगो की मदद करे।

मीठा बनाए और इसे बांटे
मीठा बनाए और इसे बांटे

6.) शमशान में दीपक जलाए – अगर यह संभव हो सके तो जरूर करे। अगर आप की शमशान में नहीं जा सकते तो किसी भी सुनसान स्थान में स्थापित मंदिर में जाकर दीपक जलाए। इससे आपके जीवन में उजाला होगा।

शमशान में दीपक जलाए
शमशान में दीपक जलाए

7.) सोने और चांदी के सिक्के ख़रीदे – दोस्तों अगर आप यह उपाय कर सकते हैं तो जरूर करे इससे आपके घर में धन की कमी नहीं होगी। आप धन तेरस वाले दिन सोने और चांदी के सिक्के खरीद सकते हैं। इन सिक्को को दीपावली वाले दिन लष्मी जी के चरणों में रखे। गंगाजल, चन्दन और पुष्प से लष्मी जी की पूजा करे। पूजा के बाद इन सिक्को को अपने तिजोरी या धन रखने वाले स्थान पर रखे।

सोने और चांदी के सिक्के ख़रीदे
सोने और चांदी के सिक्के ख़रीदे

8.) घर में टूटी-फूटी चीजे न रखे – घर में किसी भी प्रकार की टूटी हुई बेकार चीजे न रखे। जो मशीन रुक गईं हैं उन्हें घर से निकाल दे। इससे लष्मी जी का अवरोध होता हैं।  इसलिए पुरानी और बेकार चीजों को घर में न रखे।

घर में टूटी-फूटी चीजे न रखे
घर में टूटी-फूटी चीजे न रखे

9.) घर में सीलन या दरारे न हो – इस बात का खास धयान रखे की घर के किसी भी कोने में दरार या सीलन न हो क्युकी इसका होना अशुभ माना गया हैं। वास्तु के अनुसार इससे घर  में गार्भिर समस्या उत्पन्न होती हैं। जितना जल्दी हो सके दिवाली पर घर की दीवारों को सीलन रहित करे। घर की दीवारों की दरारे घर के सदस्यों के बीच दरारे पैदा करती हैं।

घर में सीलन या दरारे न हो
घर में सीलन या दरारे न हो

10.) पीपल के पेड़ के निचे दिया जलाए – अगर आपके घर के पास कोई पीपल का पेड़ हैं तो उसके निचे दिया जलाए और सीधा घर आ जाए। दिए को वापिस मुड़कर न देखे। ऐसा करने से आपकी धन से जुडी सभी समस्याए समाप्त होती हैं।

पीपल के पेड़ के निचे दिया जलाए
पीपल के पेड़ के निचे दिया जलाए

Leave a Comment